क्या है रेसिंग कारों का राज, सेकेंडों में पकड़ लेती हैं अल्ट्रा हाईस्पीड, कैसा होता है इनका इंजन

आपने अगर फार्मूला वन रेस में दौड़ने वाली कारों को देखा हो तो ये अलग किस्म और डिजाइन की होती हैं

इसमें ऐसा क्या खास होता है और इनका इंजन कितना ताकतवर होता है कि ये कारें ट्रैक पर सेकेंड्स में अल्ट्रा हाईस्पीड पकड़कर हवा से बातें करने लगती हैं

कार की बात होते ही रफ्तार और अमीरी का ध्यान आता है. आमतौर पर रेसिंग कारें अलग ही तरह की कारें होती हैं. आखिर सामान्य कारों और रेसिंग कारों में क्या अंतर होता है. सच ये है कि सामान्य कारों और रेसिंग कारों में अंतर होता है जिससे वो तेज भाग सकती हैं

कारों में भी एक श्रेणी ऐसी होती है जिनमें बहुत ही अलग तरह के इंजन उपयोग में लाए जाते हैं.  इनकी गति हजार मील प्रति घंटा यानी 1600 किलोमीटर प्रति घंटा तक होती है

इनके इंजन विशेष डिजाइन के टर्बो जेट इंजन होते हैं. अगर केवल रेसिंग कार ही की बात करें तो इनकी अधिकतम रफ्तार 500  किलोमीटर प्रति घंटा तक की होती है.

इनिग्सैग जैग्सो एब्सॉल्यूट नाम की कार इससे अधिक की रफ्तार हसिल कर चुकी है. यानी इससे दिल्ली से पटना के बीच तक सफर, जो करीब 1054 किलोमीटर का होता है, दो घंटे में पूरा हो सकता है.

इनिग्सैग जैग्सो एब्सॉल्यूट नाम की कार इससे अधिक की रफ्तार हसिल कर चुकी है. यानी इससे दिल्ली से पटना के बीच तक सफर, जो करीब 1054 किलोमीटर का होता है, दो घंटे में पूरा हो सकता है.