अमृतसर में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

क्या आप कहीं घूमने जाने की योजना बनाना चाह रहे हैं? यदि हां, तो अमृतसर घूमने की योजना जरूर बनाएं। अमृतसर पंजाब राज्य का एक प्रमुख शहर है, साथ ही एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है। यह शहर स्वर्ण मंदिर के लिए देश दुनिया में प्रसिद्ध है। इसके अतिरिक्त भी यहां पर कई सुंदर पर्यटन स्थल है।

यहां की बहुत सी जगह ऐसी है, जो इतिहास से जुड़ी रोचक बातें बयां करती है। यह शहर गुरु नानक देव के अनुयायियों की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक धरोहर है। देश दुनिया में फैले हुए सिख समुदाय के लोगों के लिए अमृतसर एक पवित्र स्थान है। इस शहर की खूबसूरती को देखने के लिए प्रतिदिन हजारों की संख्या में सैनानी यहां पर आते हैं।

तो इस लेख में अंत तक बने रहिए क्योंकि आगे हम अमृतसर की यात्रा से जुड़ी कई आवश्यक जानकारी बताने वाले हैं, जिसमें हम आपको अमृतसर के बारे में कुछ रोचक तथ्य, अमृतसर घूमने की जगह अमृतसर में लोकप्रिय स्थानीय भोजन, अमृतसर के नजदीक घूमने की जगह और अमृतसर में ठहरने की जगह इत्यादि जानकारी देने वाले हैं।

स्वर्ण मंदिर

अमृतसर में जब घूमने लायक जगह की बात आती है तो सबसे पहले स्वर्ण मंदिर का नाम आता है क्योंकि अमृतसर स्वर्ण मंदिर के लिए ही प्रख्यात है। इस मंदिर को हरमंदिर साहिब के नाम से भी जाना जाता है, जिसकी नींव 1581 में रखी गई थी और 1604 में बनकर तैयार हुआ। इस तरीके से इस मंदिर को बनाने में 20 वर्षों का समय लगा। इस मंदिर का इतिहास 400 साल पुराना है।

वाघा बॉर्डर

अमृतसर आने वाले पर्यटक इस बाघा बॉर्डर को देखने के लिए जरूर आते हैं क्योंकि यहां पर रिट्रीट शेरमनी पर्यटकों को काफी आकर्षित करती है। यहां आने वाले सेनानी सैनिकों का उत्साह बढ़ाते हैं।यह बॉर्डर अमृतसर के मुख्य शहर से 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां तक आने के लिए आपको कई प्रकार के वाहन मिल जाएंगे। यहां पर प्रवेश लेते वक्त ध्यान रखें कि आपको केवल मोबाइल और कैमरा ले जाने की अनुमति मिलेगी, बाकी के समान आपको बाहर अपने होटल में ही रखर आने होंगे।

दुर्गयाना टेम्पल

अमृत शहर में स्थित यह दुर्गियाना टेंपल मां दुर्गा को समर्पित है। इस मंदिर को सिल्वर टेंपल और शीतला माता के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार माना जाता है कि यह मंदिर उसी स्थान पर बना हुआ है, जहां पर श्री राम के अश्वमेध यज्ञ के घोड़े को उनके पुत्र लव कुश ने पकड़ लिया था।

राम तीर्थ मंदिर

अमृतसर की यात्रा के दौरान राम तीर्थ मंदिर को विजिट करना आपके लिए बहुत अच्छा अनुभव साबित होगा। क्योंकि यह मंदिर की भव्यता और इसकी खूबसूरती देखने लायक है। यहां चारों तरफ दिव्य अलौकिक वातावरण के बीच मूर्तियां और सुसज्जित झोपड़ी आपको त्रेता युग की याद दिला देगा।यह मंदिर महर्षि वाल्मीकि जी को समर्पित है। पौराणिक कथाओं के अनुसार वाल्मीकि जी इसी जगह पर तप करते थे और इसी जगह पर भगवान राम के द्वारा माता सीता के त्यागने पर माता सीता ने आश्रय लिया था