30,000 किमी चल चुकी है बाइक? अगर नहीं बदलवाई ये चीज तो कर रहे बड़ी गलती, बाइकर्स ऐसे दे रहे मौत को दावत

आप बाइक चलाते हुए सुरक्षित रहें इसके लिए सिर्फ हेलमेट पहनना ही काफी नहीं है, बल्कि बाइक की कंडीशन पर भी ध्यान देना बेहद जरूरी है

अगर बाइक का कोई पार्ट हद से ज्यादा घिस गया है तो बेहतर है कि कोई बड़ी समस्या खड़ी होने से पहले ही उसे बदल दिया जाए

दोपहिया वाहनों के घिसे टायर आज बाइक चालकों के लिए काल बन रहे हैं, जिसके वजह से देश में दोपहिया वाहन दुर्घटनाओं की संख्या बढ़ रही है.

पिछले कुछ सालों से देश में सड़कों की स्थिति में सुधार हुआ है. चाहे वह नेशनल हाईवे हों या फिर स्टेट की सड़क. सड़कों की स्थिति सुधरने से गाड़ियां तेज चलने लगी हैं, लेकिन इससे दुर्घटनाओं की सांख्य में तेजी से इजाफा हुआ है

टायर चिकना होने से अचानक ब्रेक लगाने पर दोपहिया वाहन स्लिप हो जाते हैं और इसमें वाहन सवार लोग नीचे गिर जाते हैं

हाईवे या ट्रैफिक वाली सड़क पर ऐसी घटनाएं जानलेवा भी साबित हो रही हैं. तेज रफ्तार बाइक के स्लिप होकर बड़ी गाड़ियों के नीचे आने के कई मामले सामने आए हैं

नियम के अनुसार, अगर टायर की मोटाई 1.6 एमएम से कम होती है तो उसे घिसा हुआ माना जाता है.